डेंगू का कहर : ये राज्य वायरल की चपेट में, सबसे ज्यादा बच्चो की मौते, सरकार ने लगाई कूलर चलाने पर रोक

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद में डेंगू से 50 मौतों के बाद वहां के डीएम ने एक महीने के लिए कूलर के इस्तेमाल पर रोक लगा दी है. विशेषज्ञों ने जांच में पाया है कि वहां कूलर के पानी में बहुत ही खतरनाक रक्तस्रावी डेंगू की प्रजाति से बीमारी फैली है. इस डेंगू में बच्चों की प्लेटलेट्स बहुत जल्दी कम हो जाती हैं, जिनसे उनकी मौत हो जाती है. पूरा यूपी इस वक्त वायरल बुखार की चपेट में है.

कई जगहों पर हालात ऐसे हैं कि मरीजों को अस्पताल तक लाने के लिए साधन नहीं मिल पा रहे हैं, जिसकी वजह से लोग पैदल ही मरीजों को अस्पताल लेकर आ रहे हैं. वहीं, कई लोगों को अपने परिवार वालों के शवों को ले जाने के लिए भी साधन नहीं मिल पा रहे हैं.

फिरोजाबाद के डीएम चंद्र विजय सिंह ने बताया, ‘हमें WHO की टीम ने बताया कि ये डेंगू Hemmorrhagic (रक्तस्रावी) डेंगू है. और बहुत खतरनाक तरीके का डेंगू है. और इसमें बच्चों की प्लेटलेट्स अचानक से गिरती हैं और खून आना शुरू हो जाता है.’

फिरोजाबाद में सरकारी आंकड़ों के मुताबिक कम से कम 50 लोगों की मौत हो गई है. जबकि भाजपा विधायक मनीष असीजा कहते हैं कि मरने वालों की तादाद 60 से ज्यादा है. इनमें ज्यादात्तर बच्चे हैं. यहां सीएमओ दफ्तर में विशेषज्ञ इस पर माथापच्ची कर रहे हैं. केंद्र सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय से 5 विशेषज्ञ और प्रदेश सरकार के स्वास्थ्य विभाग के 3 विशेषज्ञ भेजे गए हैं. शुरुआती जांच से पता चला है कि यहां कूलर के पानी में डेंगू के मच्छर पल रहे हैं.

राज्य के कीटविज्ञानशास्री डॉ. सुदेश कुमार ने बताया, ‘जो मुख्य कारण है वो कूलर है. ये बड़े-बड़े कूलर हैं और उसमें Aedes Aegyti की प्रजाति है. तो जिलाधिकारी महोदय ने एक महीने तक यहां फिरोजाबाद में कूलर में पानी भरना प्रतिबंधित कर दिया है. और आम नागरिकों से अनुरोध है कि कूलर में पानी बिल्कुल ना भरें.’

यूपी के तमाम जिले वायरल बुखार की चपेट में हैं. उन्नाव में चार दिन में 800 मरीज आए हैं. यहां डेंगू के लिए स्पेशल वार्ड बनाया गया है. देवरिया के सरकारी अस्पताल की ओपीडी में वायरल बुखार के 100 बच्चे आए. जबकि 50 आईसीयू और जनरल वार्ड में भर्ती हैं. कानपुर के सरकारी अस्पतालों में बुखार के मरीजों की भीड़ है. इनमें भी बच्चे ज्यादा हैं. हापुड़ के सरकारी अस्पताल में बीमार बच्चों को लेकर आई महिलाओं की भीड़ है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back To Top