ट्रेन का ड्राइवर बजाता है अलग-अलग तरह की 11 सीटियां, हर हॉर्न के पीछे होता है खास रहस्य

train-horn-means

भारतीय रेलवे ने लगभग देश के हर हिस्से को छू लिया है. अगर आपने कभी ट्रेन में सफर किया है, तो देखा होगा कि रेलवे अपने इंजनों में पॉवरफुल एयर हॉर्न का इस्तेमाल करता है. ट्रेन में हॉर्न लगाने इस वजह से लगाए जाते हैं, ताकि गार्ड से लेकर, रेलवे के स्टाफ, यात्री और ट्रेन के रास्ते में आने वाले सभी लोग सचेत हो जाएं. लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि ट्रेन में 11 तरीके के हॉर्न बजाए जाते हैं. इन हॉर्न का अलग-अलग मतलब होता है. आइए इसके बारे में बताते हैं. 

एक छोटा हॉर्न

अगर ट्रेन का ड्राइवर एक शॉर्ट (छोटा) हॉर्न बजाता है, तो इसका मतलब होता है कि ट्रेन यार्ड में आ गई है और उसकी साफ-सफाई का वक्त हो गया है.

दो छोटे हॉर्न

ट्रेन का ड्राइवर उस समय हॉर्न बजाता है, जब ट्रेन सफर के लिए तैयार होती है. इस हॉर्न के जरिए वो गार्ड को यह संकेत देता है कि ट्रेन चलने के लिए तैयार है, आगे बढ़ने के लिए सिग्नल दीजिए.

तीन छोटे हॉर्न

ट्रेन में तीन हॉर्न इमरजेंसी की स्थिति में बजाया जाता है. इसका मतलब ये होता है कि ड्राइवर का इंजन से कंट्रोल खत्म हो चुका है. इसलिए वो गार्ड को इस हॉर्न के जरिए संकेत देता है कि वो वैक्यूम ब्रेक को तुरंत खींचे. हालांकि ये बेहद कम ही इस्तेमाल होता है.

चार छोटे हॉर्न

अगर ट्रेन में कोई तकनीकी समस्या आ जाती है, तो ड्राइवर चार बार छोटे-छोटे हॉर्न बजा सकता है. इसका मतलब ये भी है कि इंजन आगे जाने की स्थिति में नहीं है.

एक लंबा और एक छोटा हॉर्न

अगर कभी ट्रेन में सफर कर रहे हों और ट्रेन के चलने का वक्त होने वाला हो और ड्राइवर एक लंबा और एक छोटा हॉर्न बजाए तो आप समझ जाइएगा कि वो गार्ड को इशारा दे रहा है कि वो ब्रेक पाइप सिस्टम को सेट कर दे.

दो लंबे और दो छोटे हॉर्न

इसका मतलब होता है कि ट्रेन ड्राइवर इंजन का नियंत्रण लेने के लिए गार्ड को संकेत दे रहा है

दो छोटे और एक लंबा हॉर्न
इस हॉर्न से ड्राइवर गार्ड को इंजन का कंट्रोल लेने के लिए संकेत देता है. इस उस समय बजाया जाता, जब किसी ने ट्रेन की इमरजेंसी चेन खीचीं है या फिर गार्ड ने वैक्युम ब्रेक लगाया है.
लगातार बजने वाला हॉर्न
कोई भी ट्रेन ड्राइवर ये हॉर्न तब बजाता है जब उसे किसी प्लेटफॉर्म पर खड़े यात्रियों को सूचित करना हो कि ये रेलगाड़ी कई स्टेशनों पर बिना रुके ही चलती जा रही है और उस स्टेशन पर भी नहीं रुकने वाली है.
दो बार रुककर हॉर्न

अगर ड्राइवर रुक-रुक कर लंबा हॉर्न दे रहा, तो ट्रेन रेलवे क्रॉसिंग पार करने वाली है. इस हॉर्न से लोको पायलट ट्रैक के आसपास मौजूद लोगों को सतर्क करता है कि ट्रेन आ रही है. इसलिए वो दूर हट जाए.

दो लंबे और एक छोटा हॉर्न
सफर के दौरान अगर आपको ये हॉर्न सुनाई दे, समझ लीजिए की ट्रन ट्रैक बदल रही है.
छह बार छोटे हॉर्न
लगातार छह बार छोटे हॉर्न ड्राइवर तभी बजाता है, जब ट्रेन किसी किसी मुसीबत में फंस जाती है. इसके जरिए वो नजदीकी स्टेशन से मदद की अपील करती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back To Top