शादी में 50 से ज्यादा लोग नहीं आ सकते, इसलिए शिफ्ट में बुलाए मेहमान; वेजिटेरियन हैं तो शाम को, मटन-चिकन के शौकीन तो रात में आएं

जालंधर. देश में कोरोना के प्रकोप के कारण अप्रैल-मई में होने वाली कई शादियां टल गईं। लॉकडाउन खत्म होने के बाद जून में कई शादियां होनी हैं, लेकिन इस महीने में सिर्फ 6 मुहूर्त हैं, जिनमें से अब 5 ही बचे हैं। लॉकडाउन और कोरोना वायरस के कारण सरकार ने शादी समारोह में 50 लोगों के शामिल होने की अनुमति दी है। इसका पंजाब के लोगों ने तोड़ निकाल लिया है, ताकि शादी में सभी खास मेहमान शामिल हो सकें। 

ये लोग अपने रिश्तदारों ‌और दोस्तों को शिफ्ट वाइज बुलाएंगे। जो मेहमान शकाहारी हैं उन्हें शाम 4 से 6 बजे की शिफ्ट में बुलाया जा रहा है, जिसमें राजमा, चावल, पनीर परोसा जा रहा है। जो मटन, चिकन, कबाब और शराब के शौकीन हैं, उन्हें शाम 6 बजे से रात 8 बजे की शिफ्ट में इनवाइट किया जा रहा है। मेहमानों से यह अपील भी की गई है कि वे समारोह में 30 से 45 मिनट ही रुकें।

जिला प्रशासन के पास आए ऐसे 11 आवेदन

इससे 2 फायदे हो रहे हैं- एक समारोह में भीड़ कम होगी, दूसरा इसमें सभी शामिल हो सकेंगे। इसके लिए बाकायदा जिला प्रशासन में आवेदन देकर अनुमति मांगी गई है। अब तक 11 लोग प्रशासन को आवेदन दे चुके हैं। प्रशासन भी इन्हें अनुमति दे रहा है। जालंधर के मॉडल टाउन इलाके के रहने वाले राकेश शर्मा ने बताया कि उनकी बहन के लड़के की 27 जून को शादी है। इसमें मेहमानों को 2 शिफ्टों में बुलाने के लिए प्रशासन से अनुमति मांगी गई है। इससे एक साथ ज्यादा लोग नहीं जुटेंगे और संक्रमण का खतरा नहीं बढ़ेगा। 

प्रशासन का कहना- नियम का सख्ती से पालन होगा
जालंधर डीसी वरिंदर कुमार शर्मा ने कहा कि गाइडलाइन को ध्यान में रखते हुए लोग अपने बच्चों की शादी कर सकते हैं, इसके लिए कोई रोक नहीं है। समारोह में 50 से ज्यादा लोग एक साथ नहीं जुटने चाहिए। इस नियम का कड़ाई से पालन करने के लिए सख्त निर्देश दिए गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back To Top